Sunday, March 17, 2013


नसीब अपना नहीं जिसको पता है
वो औरों की लकीरें देखता है

लजाती है सहन में धूप ऐसे
की जैसे वो किसी की ब्याहता है

हवा फिरती है हर सू पागलों सी
कई दिन से ज्यूँ बेटा लापता है

कहा क्या चांदनी ने चाँद से जो 
छुपाने को हंसी मुंह ढांपता है

सफ़र कितना है लम्बा ज़िंदगी का
जो सूरज रोज इसको नापता है




No comments:

Post a Comment