Tuesday, July 3, 2012

ये बिचारा तो बस तडपता है
लोग कहते हैं दिल धडकता है

देखते हैं वो जब भी आईना 
अक्स पे उनका दिल मचलता है 

सोज शिद्दत के साथ हो पैहम  
सख्त फौलाद भी पिघलता है 

उसने रस्ता बदल दिया शायद 
अब तो रस्ता भी राह तकता है 


बद्दुआ बेअसर रही मुझपर 
रब दुआ का हिसाब रखता है

रास आया है खूं मेरा उनको 
यूँ ही चेहरा नही चमकता है  

No comments:

Post a Comment